आखिर क्यों होते हैं अलग-अलग रंग के मील के पत्थर, जानिए इनके मतलब

एक जगह से दूसरी जगह जाते समय आपने सड़क पर अलग-अलग रंग के मील के पत्थर तो देखें ही होंगे। आपको बता दें कि मील के पत्थर एक प्रकार का पत्थर हैं जो हमें बताता हैं कि निश्चित स्थान से हमारी मंजिल कितनी दूर है। भारत में सभी सड़कों पर एक जैसे मील के पत्थर नहीं होते है। यह मार्ग पर निर्भर करता है। जैसे कि राष्ट्रीय राजमार्ग, राज्य राजमार्ग, जिला और गांव की सड़कों के लिए अलग-अलग रंग की पट्टियों वाले पत्थर होते है।

1. पीले रंग के पत्थर

Yellow milestone

सड़क पर चलते वक्त या गाडी चलाते समय किनारे में एक ऐसा पत्थर दिखे जिसका उपरी हिस्सा पीले रंग का हो तो समझ जाएये की आप नेशनल हाईवे या राष्ट्रीय राजमार्ग पर चल रहे हैं। ये हाईवे राज्यों और शहरों को आपस में जोड़ते हैं। सेंट्रल गवर्नमेंट इन हाईवे को मेन्टेन करती है।

2. हरे रंग के पत्थर

Green milestone

जब आपको सड़क पर हरे रंग का मील का पत्थर दिखाई दे तो समझ जाइए कि आप राज्य राजमार्ग या स्टेट हाईवे पर चल रहे हैं। आपको बता दें कि स्टेट हाईवे राज्य के जिलों को आपस में जोड़ते हैं। इनकी देखरेख की जिम्मेदारी राज्य सरकार के हाथों में होती है।

3. काले, नीले या सफ़ेद रंग के पत्थर

Black milestone

जब आपको सड़क पर काले, नीले या सफेद रंग के मील के पत्थर दिखे तो समझ जाइए कि आप किसी बड़े शहर या जिले में प्रवेश कर चुके हैं। इस सड़क की देखभाल उसी शहर के प्रशासन द्वारा ही की जाती है।

4. नारंगी रंग के पत्थर

Narangi milestone

अगर आपकी नजर नारंगी रंग के मील के पत्थर पर पड़े, तो समझ जाएं कि आप किसी गांव में आ चुके हैं। ये सडकें प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के अंतर्गत बनाई गई होती हैं।

Leave a Comment