गूगल, फेसबुक जैसी बड़ी कंपनियों में दिया जाता है ऐसा खाना, देखें तस्वीरें

आजकल की आधुनिक ऑफिस के कैफेटेरिया और डाइनिंग रूम दुनिया के सर्वश्रेष्ठ रेस्टॉरेंट को भी टक्कर दे सकते हैं, फर्क सिर्फ इतना है की इन ओफ्फिसो में खाना फ्री होता है लेकिन जाहिर सी बात है सिर्फ कर्मचारियों के लिए. इन सफल कंपनियों को बड़े लम्बे समय पहले एहसास हो गया था की उनके कर्मचारियों की कार्यक्षमता का रास्ता उनके पेट से गुजरता है. आज हम आपको बताएंगे की गूगल, एपल, फेसबुक जैसी बड़ी कंपनियों कैसा खाना दिया जाता है.

गूगल

गूगल का मुख्यालय न्यूयॉर्क में है। यहां गूगल के कर्मचारियों को एक दिन में तीन बार मुफ्त में भोजन दिया जाता हैं, यहाँ के कैफे से मैनहट्टन के सुंदर दृश्य दीखते हैं। कैफे में कई जोन हैं, जहां आप विभिन्न प्रकार के व्यंजन, फास्ट फूड, स्नैक्स आदि खा सकते हैं। इंटरनेट पर इस कैफे का सबसे लोकप्रिय रिव्यू ऐसा दया गया है: ‘ यदि आप अपनी नौकरी से निराश होना चाहते हैं, तो बस गूगल में काम कर रहे एक दोस्त के साथ उनके कैफेटेरिया में चले जाएं। ये अविश्वनीय है।

Apple

Apple का मुख्यालय Cupertino, California में है। यहाँ के कैफे को ” कैफ़े मैक ” कहा जाता है, जो बहुत विशाल और पूरी तरह से मुक्त है। Caffè Macs दोपहर के भोजन में मैक्सिकन, इतालवी, जापानी, स्पेनिश और फ्रेंच भोजन परोसता है, साथ ही साथ फास्ट फूड भी। नाश्ते में आमतौर पर स्ट्राबेरी फ्रेंच टोस्ट, चॉकलेट चिप पेनकेक्स, ताजे बने रस, कई तरह की आइसक्रीम और अन्य मिठाइयां होती हैं। मेन्यू लगातार बदलता रहता है।

फेसबुक

फेसबुक का हेड ऑफिस कैलिफोर्निया के मेनलो पार्क नामक एक छोटे से शहर में है। फेसबुक के कैफे में कर्मचारियों को प्रति दिन तीन बार मुफ्त भोजन मिलता है। यह कैफे मुख्य रूप से अमेरिकी और एशियाई व्यंजन परोसता है, और आप मुफ्त भोजन घर पर भी ले जा सकते हैं, अगर आप कंपनी में काम करते हैं। कार्यालय के मेहमानों के लिए एक बहुत बड़ा डिस्काउंट भी मिलता है!

ट्विटर

लोकप्रिय माइक्रोब्लॉगिंग वेबसाइट का मुख्यालय सन फ्रांसिस्को के मध्य में मार्केट स्क्वायर पर 1937 में निर्मित एक बड़ी बिल्डिंग में है। यहाँ भी कर्मचारियों के लिए एक मुफ्त कैफे है, जहां मेनू को विभिन्न प्रकार के व्यंजनों में विभाजित किया गया है जिन्हे हैशटैग के साथ मार्क किया जाता है जैसे की #comfort, #tenderloin, और @birdfeeder.

Leave a Comment