चाणक्य नीति : घर खरीदते समय रखें इन 5 बातों का ध्यान, नहीं तो होगा आपका नुकसान

चाणक्य नीतियों के बारे में – सरकार चाहे जो भी हो लेकिन आज के समय में कोई भी महंगाई को खत्म नहीं कर रहा है, नेता सिर्फ लोगो को सपने दिखा कर वोट हडपना जानते हैं.

आज के समय में किसी भी व्यक्ति के लिए घर खरीदना बेहद मुश्किल हो गया है.

और ऐसा इसलिए नहीं है क्योंकि उसकी कमाई कम है बल्कि ऐसा इसलिए है क्योंकि घरो की किमते इस समय आसमान छुह रही हैं. विष्णु पूरण तक में बताया गया है कि कलियुग में मनुष्य अपने जीवन भर की कमाई केवल एक घर बनाने में खर्च देगा. देखा जाए तो उस समय स्थिति कुछ ऐसी ही हुई पडी है.

अब अगर अपनी जीवन भर की पूंजी लगाकर भी व्यक्ति अपने नए घर में खुश ना रह पाए तो यह बहुत कष्ट देने वाला हो सकता है. इसलिए आज हम आपको आचार्य चाणक्य की नीति व ज्ञान के बारे में बताने जा रहे हैं जिस से आपको पता चल सकेगा की आप ने अपना सपनो का घर कहा और कैसे बनाना चाहिए ताकि आप भविष्य में उसमे पैसा लगा कर निराश होने की बजाए उसमे खुशी से रह सके.

तो चलिए जानते हैं उन 5 चाणक्य नीतियों के बारे में –

चाणक्य नीतियों के बारे में

चाणक्य नीतियों के बारे में – सबसे पहले जानिए चाणक्य मंत्र –“धनिक: श्रोतियो राजा नदी वैद्यस्तुपंचम:। पंच यत्र न विद्यन्तेतत्रदिवसं न वसेत्।।“ इस मंत्र में चाणक्य ने 5 बातो का ध्यान रखने को कहा है. यानी जहा धनी, वैदो का ज्ञान रखनेवाले, राजा न्नदी और वैद्य न हो, ऐसी जगह पर कभी भी निवास नहीं करना चाहिए.

१. पडौसी भी होता है महत्वपूर्ण –

अगर आपके आस पडोस में धनवान व्यक्ति रहते हो तो वहाँ आपको सकारात्मकउर्जा प्रदान होगी और दूसरी ओर अगर आप किसी ऐसी जगह निवास करते हैं जहा सभी को पैसो की तंगी हो वहाँ आए दिन लड़ाई झगडे होते रहते हैं.

२. ज्ञानी लोग के पास करे निवास –

अपना निवास किसी ऐसी जगह पर ले जहा आस पास ज्ञानी व विद्वान लोग रहते हो, ऐसी जगह पर घर बनाना सुखद होता है. ऐसी जगह पर घर होने से बच्चो की अच्छी परवरिश होती ऐ और साथ ही ऐसे लोगो के साथ आचरण सही रहता है.

३. शासकीय व्यवस्था हो दुरुस्त –

ऐसी जगह घर बनाए जहा शासकीय कार्य संबंधी कार्यालय आपके घर के आस पास ही हो. इस से मार्ग पर पहुंचना सुगम हो जाता है और साथ ही शासन योजानाओ का लाभ भी मिलता है. इसके अलावा आपकी सुरक्षा सुनिश्चित होती है.

४. जल की ना हो कोई कमी –

विश्व भर में कई ऐसे स्थान है जहा आज तक पानी की बेहद कमी है, जिसके कारण लोगो के लिए जीवन व्यवसाय करना बेहद मुश्किल रहता है. भले ही पानी की कमी धरती पर लोगो को आज उत्पन्न हुई हो लेकिन आचार्य चाणक्य ने इस स्थिति को ध्यान रखते हुए सैकडो वर्ष पहले ही कहा था की कभी भी अपना निवास किसी ऐसी जगह ना ले जहा पानी की कमी हो.

५. अस्पताल पहुंचना हो आसान –

किसी ऐसी जगह घर ले जहा चिकित्सक तक पहुंचा आपके लिए आसान हो.

चाणक्य नीतियों के बारे में

तो दोस्तो अगर आप भी नया घर खरीदने की सोच रहे हैं तो चाणक्य की कही इन पांच बातो को ध्यान में जरूर रखे अन्यथा ऐसा ना हो की आपको घर खरीदने के बाद पछ-ताप हो.

Leave a Comment