आखिर चीटियां हमेशा एक लाइन में ही क्यों चलती हैं ?

पर्यावरण का संतुलन बनाए रखने के लिए भगवान ने छोटे-बड़े हर तरह के जीव-जंतु बनाए हैं। इनमें से एक चींटी भी है। आपने अक्सर देखा होगा कि चीटियां हमेशा एक लाइन में ही चलती हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि ऐसा क्यों है? चलिए हम बताते हैं कि इसके पीछे कौन सा रहस्य छुपा हुआ है?

चींटी अपने आकार के संबंध में दुनिया के सबसे मजबूत प्राणियों में से एक है। यह दिखने में भले ही छोटी होती है, लेकिन इनके अंदर ऐसी काबिलियत होती है कि ये अपने वजन से 50 गुना ज्यादा वजन उठा सकती हैं। चींटियों के शरीर में फेफड़े नहीं होते हैं। ऑक्सीजन और कार्बन डाईऑक्साइड के आवागमन के लिए उनके शरीर पर छोटे-छोटे छिद्र होते हैं। हालांकि चींटियों के कान भी नहीं होते हैं। वो जमीन के कंपन से ही शोर का अनुभव करती हैं।

वैसे तो चींटियों की आंखें होती हैं, लेकिन वो सिर्फ दिखावे के लिए होती हैं। उनसे वो देख नहीं सकती हैं। खाने की तलाश में जब ये चींटियां बाहर निकलती हैं तो उनकी रानी रास्ते में  फेरोमोन्स नाम का एक रसायन छोड़ते हुए जाती है, जिसकी गंध को सूंघते हुए बाकी चींटियां भी उसके पीछे चलती जाती हैं, जिससे एक लाइन बन जाती है। यही वजह है कि चींटियां एक लाइन में चलती हैं।

Leave a Comment