फिल्मों में आने से पहले वेटर से लेकर टैक्सी ड्राइवर तक का काम कर चुका है ये एक्टर

एक्टर रणदीप हुड्डा का जन्म 20 अगस्त, 1976 को हरियाणा के रोहतक में हुआ था। रणदीप ने अपने कॅरियर की शुरुआत 2001 में डायरेक्टर मीरा नायर की फिल्म ‘मॉनसून वेडिंग’ से की थी। एक्टर का बचपन काफी मुश्किलों से भरा था। अपना खर्चा निकालने के लिए उन्होंने टैक्सी चलाने से लेकर वेटर तक का काम किया है।

दादी के पास हुई थी परवरिश 

रणदीप हुड्डा के पिता रणबीर हुड्डा और मां आशा हुड्डा एक-दूसरे से अलग हो गए थे और रणदीप को दादी के पास छोड़कर काम के लिए मिडिल ईस्ट की ओर गए थे। एक इंटरव्यू में एक्टर ने कहा था कि उन्हें उस वक्त ऐसा लगा था कि उनके माता-पिता ने उनके साथ धोखा किया। रणदीप ने स्कूली पढ़ाई सोनीपत के बोर्डिंग स्कूल से की थी। इस दौरान उन्हें कई समस्याओं का सामना करना पड़ा था। स्कूली दिनों में उन्हें ‘रणदीप डॉन हुड्डा’ के नाम से जाना जाता था। यहीं से उन्होंने स्कूल प्रोडक्शन में एक्टिंग करना शुरू कर दिया था। 

मेलबर्न से की आगे की पढ़ाई

रणदीप ने अपनी आगे की पढ़ाई ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न से की थी। वहां उन्होंने ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट से पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल की। एक इंटरव्यू में उन्होंने वहां की स्थिति के बारे में भी बताया था कि मेलबर्न में रहना इतना आसान नहीं है। अपना गुजारा करने के लिए उन्हें कई बार छोटे-छोटे काम भी करने पड़ते थे। इस दौरान उन्होंने वेटर, टैक्सी ड्राइवर और कार धोने का काम तक किया था। जिससे मिले पैसों से वो अपना खर्चा निकालते थे। 

मीरा नायर की फिल्म से मिला ब्रेक

रणदीप ने पढ़ाई खत्म करने के बाद 2000 में भारत लौटे और एक एयरलाइन कंपनी के मार्केटिंग डिपार्टमेंट में काम करने लगे और साथ ही मॉडलिंग, थिएटर में भी काम करना शुरू कर दिया था। एक प्ले के रिहर्सल के दौरान मीरा नायर की नजर उन पर गई। जिसके बाद 2001 में उनकी फिल्म से ब्रेक मिला। रणदीप अपने कॅरियर का टर्निंग प्वाइंट फिल्म ‘वंस अपॉन ए टाइम इन मुंबई’ (2010) को मानते हैं। उनकी मुख्य फिल्मों में ‘साहिब बीवी और गैंगस्टर’, ‘जन्नत 2’, ‘रंगरसिया’, ‘हाईवे’, ‘सरबजीत’, ‘सुल्तान’ जैसी फिल्में रही हैं।

Leave a Comment