लंदन का वो गांव जिसने 350 साल पहले दूसरों का जीवन बचाने के लिये ख़ुद को किया था क्वरांटाइन

ये सच है कि इतिहास ख़ुद को दोहराता है. लॉकडाउन में आज जिस तरह से हम अपने घरों में बंद हैं, ठीक वैसा ही 350 साल पहले एयम गांव के लोग भी थे. वर्षों पहले इस गांव के लोगों ने महामारी को मात देने के लिये ख़ुद को घर में क्वरांटाइन कर लिया था. ताकि उनकी वजह से बाकि लोगों की ज़िंदगी ख़तरे में न आये. 

village
Source: Indiatimes

क्या है इस गांव की कहानी? कहा जाता है कि 1665-66 के दौरान इंग्लैंड में प्लेग नामक महामारी ने जन्म लिया था. जिसकी वजह से कई मासूम लोगों की ज़िंदगी तबाह हो गई थी. हांलाकि, लंदन से 3 घंटे की दूरी पर बसा एयम गांव इस महामारी से पूरी तरह सुरक्षित था. ऐसा इसलिये, क्योंकि इस गांव के लोगों का ज़्यादा बाहर आना-जाना नहीं था. इस दौरान अलेक्जेंडर हैडफ़ील्ड नामक एक दर्जी कपड़े का थान लेने लंदन जा पहुंचा. अफ़सोस उसे इस बात की जानकारी नहीं थी कि वो जो थान ख़रीद रहा है, उससे प्लेग फ़ैलने का ख़तरा बढ़ जाएगा. 

village
Source: IndiaTimes

वही हुआ जिसका डर था हैडफ़ील्ड जैसे ही गांव पहुंचा थान का बंडल खोलने वाले उसके साथी जॉर्ज विकर्स की मौत हो गई. इसके साथ ही सप्ताहभर के अंदर वो लोग संक्रमित हो गये, जिनसे वो मिला था. इस तरह से इस बीमारी ने पूरे गांव में घऱ कर लिया. रिपोर्ट के अनुसार, 1665 में सितंबर से दिसंबर के बीच करीब 42 ग्रामीणों की मृत्यु हो गई. बीमारी के ख़तरे को देखते हुए 1666 में ग्रामीणों ने बाहर न निकलने का फ़ैसला किया, ताकि बाकि लोग बच सकें. बेचैन गांव वाले सहायता के लिये रेक्टर विलियम मोम्पेसन और निष्कासित पूर्व रेक्टर थॉमस स्टेनली के पास पहुंचे. थॉमस स्टेनली ने उन्हें महामारी से निपटने के लिये मेल-मिलाप न करने और घर में रहने की सलाह दी. 

village
Source: dgrin

जब ग्रामीणों ने किया ख़ुद को कैद  थॉमस स्टेनली के समझाने पर कुछ गांववालों ने ख़ुद को घरों में कैद कर लिया और कुछ बाहर निकल गये. इसके बाद 24 जून 1666 वो तारीख़ थी, जब बाहरी लोगों के लिये गांव के सभी रास्ते बंद कर वहां एक दीवार खड़ी कर दी गई. जिसे वर्तमान में लोग ‘मोम्पेस्सन वेल’ के नाम से जानते हैं. दीवार में एक छेद भी किया था ताकि ज़रूरत पड़ने पर ग्रामीण छेद से सिक्के फ़ेंक कर लोगों से मदद मांग सकते थे. हांलाकि, इतना सब होने के बावजूद गांव में मौत का सिलसिला नहीं रूका और दिनभर में करीब 5-6 मौतें होने लगीं.   

village
Source: IndiaTimes

इस महमारी ने गांव में लाशों का ढेर लगा दिया था, पर ग्रामीणों का साहस कम नहीं हुआ और वो डटे रहे. इसके बाद सितंबर-अक्टूबर तक इस संक्रमण का कहर थोड़ा कम होने लगा और नवंबर में ये बीमारी अचानक लोगों की ज़िंदगी से चली गई. रिपोर्ट के मुताबिक, संक्रमण के दौरान गांव की आबादी कुछ 800 से भी कम थी और महमारी के दौरान 260 लोगों की मौत हो गई. 

कहा जाता है कि संक्रमण से लोग इतने डरे हुए थे कि इसके ख़त्म होने के बाद भी ग्रामीणों ने क्वरांटाइन जारी रखा. सालों बाद लोगों ने बाहर निकलना शुरू किया. इस तरह एक-एक करके सभी गांववालों ने गांव खाली कर दिया और आज इसे हम एक पर्यटक स्थल के रूप में जानते हैं. 

Leave a Comment