अलग अलग जानवरों की आंखों से दुनिया कैसी दिखती है, देखे इन तस्वीरों में

क्या आपने कभी सोचा है कि कुत्ते की आँखों में दुनिया कैसी दिखती होगी? या एक मधुमक्खी को दुनिया कैसी देखती है? पृथ्वी पर हर तरह के जानवरों की देखने की क्षमता अलग अलग होती है, और कुछ जानवर वो भी देख सकते हैं कि जो हम नहीं देख सकते हैं। आज LMF में हम आपको यह दिखाएंगे कि विभिन्न जानवरो को अपने आसपास की दुनिया को कैसी दिखती हैं।

कुत्ते

कुत्तों की अलग अलग रंग देखने की क्षमता कम होती है; उनकी आंखें ज्यादातर रंगों के प्रति संवेदनशील नहीं हैं, और उन्हें दुनिया कुछ फीकी दिखती हैं। लेकिन कुत्ते रात में बहुत अच्छी तरह से देख सकते हैं। कुत्तों की आँखे perception और गहराई के प्रति काफी संवेदनशील होती है. उनकी आँखें किसी भी प्रकार के हलन-चलन प्रति हमसे ज्यादा संवेदनशील होती हैं।

मछली

मछलीघर (aquarium) में रहने वाली मछली अल्ट्रावायलेट किरणें देख सकती है, और उसे अपने नजदीक की चीजे सामान्य से ज्यादा बड़ी दिखती है। शायद इसीलिए हर समय मछलियाँ आश्चर्य चकित अंदाज में रहती हैं।

पक्षी

हमारे पंख वाले दोस्तों की दृष्टि काफी तेज़ होती है। रात के पक्षी अँधेरे में बहुत अच्छी तरह से देख सकते हैं, और दिन के दौरान पक्षी उन रंगों को देख सकते हैं जो मनुष्य नहीं देख सकते, साथ ही अल्ट्रावायलेट किरणें भी देख सकते हैं।

सांप

सांपों में की दृष्टि आम तौर पर कमजोर होती है, लेकिन वे रात में थर्मल विकिरण को किसी भी आधुनिक तकनीक से दस गुना बेहतर देख सकते हैं। हालांकि, दिन के दौरान वे केवल हलन-चलन महसूस करने पर ही प्रतिक्रिया देते हैं – यदि उनका शिकार कोई हलन-चलन न करे, तो वे उसे कभी पकड़ नहीं पाएंगे।

चूहे

माउस की प्रत्येक आंख स्वतंत्र रूप से देख सकती है, इसलिए वे दो अलग-अलग तस्वीर देखते हैं। उन्हें नीले-हरे रंग की धुंधली दुनिया दिखती है, जो धीमी गति से चलती है।

गाय

गायों को चरने के हरेभरे मैदान हरे नहीं बल्कि नारंगी और लाल दिखाई देते हैं। लेकिन गायों को सब कुछ थोड़ा ज्यादा बड़ा दीखता हैं।

घोड़े

घोड़े की आँखें उनके सिर की दो बाजु पर होती हैं, जो उन्हें किसी भी खतरे से आगाह करने में मदद करती है। लेकिन इसके नुकसान भी हैं: इन जानवरों को कभी नहीं दिखता कि उनकी नाक के एकदम सामने क्या है।

मधुमक्खियां

इंसानों की तुलना में मधुमक्खियां दुनिया को तीन गुना तेज समझती हैं। वे अल्ट्रावायलेट किरणों को भी देख सकती हैं जो हम अनहीं देख सकते हैं।

मक्खियां

मक्खियों की आँखों से कुछ ऐसा दृश्य दीखता है कि जैसे हजारों छोटी छोटी आँखों की तस्वीर मिलाकर एक बड़ी तस्वीर बनाई गई हो। वे अल्ट्रावायलेट किरणों को देख सकती हैं, और दुनिया मनुष्यों की तुलना में उनके लिए कुछ धीमी गति से चलती है।

शार्क

शार्क किसी भी रंग को नहीं देख सकती हैं, लेकिन पानी के नीचे उनकी देखने की क्षमता हमारी तुलना में बहुत तेज होती है।

गिरगिट

गिरगिट सिर्फ अपने देखाव के कारण दिलचस्प प्राणी हैं, बल्कि इस कारण से भी हैं कि उनकी आंखें एक दूसरे से स्वतंत्र रूप से देख सकती हैं। इससे उन्हें हर दिशा (360º) में देखने की क्षमता मिलती है।

तितलियां

तितलियां अद्भुत होती हैं। उनकी दृष्टि बहुत तेज नहीं होती है, लेकिन वे मानव की तुलना में अल्ट्रावायलेट प्रकाश सहित कई सारे रंग देख सकती हैं।

Leave a Comment