आज़ाद हिन्द सेना के सिपाही अपना पेट भरने के लिए आज क्या कर रहे हैं? एक दर्द भरी दास्तान!

हमारे देश के सरहद पर तैनात सैनिकों की बदौलत ही हम अपने घरों में चैन की नींद सो पाते हैं.

देश की आन-बान और शान की रक्षा करने के लिए ये सैनिक अपनी जान तक न्यौछावर करने से पीछे नहीं हटते हैं.

क्या आपने कभी सोचा है कि देश के लिए अपने प्राणों का बलिदान देनेवाले इन सैनिकों को बदले में सरकार और देश की जनता से क्या मिलता है.

उम्र के आखिरी पड़ाव में आकर इन आज़ाद हिन्द सेना के सिपाही की ज़िंदगी आखिर कैसे गुज़रती है.

हम आपको बताने जा रहे हैं नेताजी सुभाष चंद्र बोस की आज़ाद हिन्द सेना के सिपाही की दर्द भरी दास्तान, जो अपना पेट भरने के लिए अपनी उम्र के आखिरी पड़ाव में आकर न जाने क्या-क्या करने को मजबूर हैं.

Collage

पेट भरने के लिए भीख मांगते हैं पूर्व सैनिक श्रीपत जी

90 साल से भी ज्यादा की उम्र पार कर चुके झाँसी के रहने वाले श्रीपत जी एक वक्त नेताजी सुभाष चंद्र बोस की आज़ाद हिन्द सेना के सिपाही हुआ करते थे.

आज उम्र के इस पड़ाव में आकर श्रीपत जी को दो वक्त की रोटी भी बड़ी मुश्किल से नसीब हो पाती है.

जब तक उनके हाथ-पैर उनका साथ दे रहे थे, तब तक उन्होंने मेहनत मजदूरी करके अपना और अपने परिवार का पेट भरा, लेकिन अब वो दर-दर भीख मांगने को मजबूर है.

2

बेटे ने जुए में लुटा दी सारी संपत्ति

श्रीपत जी की माली हालत पहले से ऐसी नहीं थी. उनके पास सात एकड़ ज़मीन, जायदाद और एक लाइसेंसी बंदूक भी थी.

एक रोज़ श्रीपत जी की खुशहाल ज़िंदगी को मानों किसी की नज़र लग गई. किस्मत ने ऐसी करवट बदली कि देखते-ही-देखते यह फौज़ी सड़क पर आ गया.

श्रीपत जी की इस कंगाली के लिए उनका बेटा तुलसिया ज़िम्मेदार है, जिसने अपनी जुए और शराब की लत के वजह से एक-एक करके सारी संपति को लुटा दिया और पूरे परिवार को कंगाल करके सड़क पर ला दिया.

3

दिल में अब भी है देश के काम आने का ज़ज्बा

श्रीपत जी अपनी पत्नी के साथ हंसारी में एक झोपड़ी में रहतें हैं.

श्रीपद जी का कहना है कि भले ही आज वो भीख मांगकर गुजारा करने को मजबूर है लेकिन वो आखिरी सांस तक अपने देश के काम आना चाहते हैं.

उनका कहना है कि नेताजी की आज़ाद हिन्द सेना के सिपाही बनकर देश के लिए लड़ना उनके लिए गौरव की बात है.

1

Leave a Comment