बॉलीवुड के शोमैन निकले एक नंबर के अय्याश इंसान, लड़की ने बताई दिल दहलाने वाली कहानी

सुभाष घई बॉलीवुड का बहुत बड़ा नाम है.

इन्होंने ही ऐश्वर्या और माधुरी जैसी हीरोइनों को टॉप की हीरोइन बनाया. तभी तो सुभाष को बॉलीवुड का दूसरा शोमैन कहा जाता है, उन्होंने कई बेहतरीन फिल्में बनाई हैं, लेकिन कामयाब फिल्ममेकर सुभाष घई क्या अच्छे इंसान हैं?

उन पर लगे आरोप पढ़ने के बाद आप खुद ही तय कर लीजिएगा.

मी टू के लेपेट में आए सुभाष घई पर एक लड़की ने बेहद संगीन आरोप लगाए हैं. इस लड़की ने अपनी आपबीती राइटर महिला कुकरेजा से शेयर की. लड़की का दावा है कि वो जब सुभाष घई के साथ एक फिल्म में काम कर रही थी तो उन्होंने नशीला पदार्थ पिलाकर उसका रेप किया.

लड़की का कहना है कि “शुरुआत में वह मुझे रिकॉर्डिंग स्टूडियो ले जाते थे जहां मुझे कई पुरुष मेंबर्स के साथ देर रात तक बैठे रहना पड़ता था. किसी ने उनके सामने कुछ नहीं किया. रिकॉर्डिंग खत्म होने पर घर आने के लिए मैं ऑटो लेती थी या फिर सुभाष घई मुझे छोड़ते थे. एक दिन उन्होंने धीरे से अपना हाथ मेरी जांघ पर रखा और मुझे गले लगाते हुए कहा कि मैंने बहुत अच्छा काम किया है. इसके बाद वह मुझे अपने लोखंडवाला वाले छोटे से अपॉर्टमेंट में स्क्रिप्ट सेशन के लिए भी बुलाने लगे. मैं जब वहां पहुंची तो उस दो बेडरूम के घर में वह अकेले थे.”

लड़की ने आगे बताया कि “ स्क्रिप्ट की जगह वह मुझे बताने लगे कि कैसे इंडस्ट्री में उन्हें सब गलत समझते हैं और सिर्फ मैं ही हूं जो उन्हें सच में पसंद करती है. वह रोने का नाटक करने लगे और अपना सिर मेरी गोदी में रख दिया. वह जब उठे तो मुझे जबरन किस करने लगे. मैं शॉक्ड रह गई और वहां से चली गई. अगले दिन ऑफिस में उन्होंने मुझे कहा कि लवर्स के बीच में नोंक-झोंक होती रहती है और मुझे अपने काम पर ध्यान देना चाहिए.”

लड़की के मुताबिक एक दिन उसे घर छोड़ने जाते समय सुभाष ने गाड़ी में ही विस्की पी और उसे भी पिलाई जिसमें शायद उन्होंने कुछ नशीली चीज़ मिला दी थी. विस्की पीने के बाद लड़की को होश नहीं रहा और सुभाष उसे एक होटेल ले गए. थोड़ा होश आने पर जब लड़की ने पूछा कि वो कहा तो उन्होंने कहा कि वह हमेशा लिखने के लिए यहां आते हैं और उनके लिए हमेशा एक कमरा तैयार रहता है. लड़की का कहना है कि “मैं ठीक से चल नहीं पा रही थी, लेकिन उन्होंने मेरा हाथ पकड़ा और मुझे कमरे में ले गए. उन्होंने मेरी जींस उतारी और मेरे ऊपर आ गए. मैंने चिल्लाने की कोशिश की लेकिन उन्होंने मेरे मुंह पर हाथ रख दिया. ड्रिंक के कारण मुझ में ताकत नहीं बची थी. मैं रोई और फिर मैंने होश खो दिया. सुबह जब मेरी नींद खुली सोफे पर लाल निशान थे और वह बिखरा हुआ था.”

इतना सब होने के बाद जब वो ऑफिस नहीं गई तो उससे कहा गया कि बिना नोटिस के नौकरी छोड़ने पर उसे सैलरी नहीं मिलेगी. लड़की ने हफ्तेभर बाद रिज़ाइन कर दिया. सुभाष घई का इन आरोपो के बारे में कहना है कि आजकल मशहूर लोगों को बदनाम करने के लिए ऐसी झूठी कहानी बनाने का फैशन चल गया है.

अब सच कौन बोल रहा है और झूठ कौन ये तो पता नहीं, लेकिन बॉलीवुड के बारे में जो बाते लोग दबी जुबान में करते थे वही बातें सच होती दिख रही है. वाकई में ये इंडस्ट्री लड़कियों के लिए कहीं से भी सुरक्षित नहीं है.

Leave a Comment