जब फिल्म के निर्माता ने कहा ‘कपड़े उतार करो ये सीन’, झेप गई थी चित्रांगदा

 #METOO की बाढ़ में आए दिन नए-नए खुलासे सामने आते है अब इस लिस्ट में एक और नाम सामने आया है।

नाम के साथ हुआ यह नया खुलासा बेहद शर्मनाक है, कि फिल्म इंडस्ट्री में किस तरह एक महिला के मान सम्मान को मात्र काम देने के नाम पर छल्ली किया जाता है। इस बार #METOO के लपेटे में चित्रागंदा सेन ने फिल्म बाबुमोशाई बंदूकबाज के फिल्म के निर्माता कुशन नंदी पर आरोप लगाया है।

#METOO की चलती आंधी ने चित्रांगदा सेन के जख्मों को शायद एक बार फिर से हरा कर दिया है।

चित्रांगदा सेन

बीते 2 साल पहले चित्रांगदा सेन ने नवाजुद्दीन सुद्दीकी पर जो आरोप लगाये थे एक बार फिर उनका जिक्र करते हुए आज उन्होंने कहा कि “उनका  गेम्स स्टार्स के क्रूमेंबर्स को दोष देने का कोई इरादा नहीं था और ना ही वो नवाजुद्दीन पर कोई आरोप लगा रही थी, हो सकता है कि नवाज की अपनी की मजबूरी रही हो”।

जब फिल्म के निर्माता ने कहा ‘कपड़े उतार कर ये सीन’

आजकल बॉलिवुड से लेकर छोटे पर्दे तक चल रही इस आंधी में 42 वर्षीय बॉलिवुड अदाकार ने हाल ही में एक अखबार को दिए अपने इन्टरव्यू में बताया कि किस तरह साल 2016 में फिल्म बाबुमोशाई बंदूकबाज के शूट के दौरान फिल्म के निर्माता कुशन नंदी ने उन्हे परेशान किया। चित्रांगदा ने बताया कि कुशन नंदी ने बड़ी ही बेहुदगी और बेशर्मी के साथ उनसे कहा कि वो ‘अपना पेटिकोट उठाए और अपने आप को कलाकार के ऊपर रगड़े’। निर्माता की ये बात सुनकर चित्रांगदा एकदम झेप गई, इस बात का और ज्यादा बुरा उन्हें तब लगा जब वहां मौजूद नवाजुद्दी सिद्दीकी भी उनके समर्थन में आगे नहीं आए।

चित्रांगदा सेन

उस दौरान वहां सैट पर नवाजुद्दीन के अलावा फिल्म के डायरेक्टर और फोटोग्राफर संग फिल्म की महिला निर्माता भी मौजूद थी, लेकिन किसी ने भी उनके पक्ष को समझना तो दूर छोड़िये उनका समर्थन करना भी जरूरी नहीं समझा। इतना ही नहीं उन लोगों ने तो फिल्म के प्रमोशन की फस्ट प्रेस कॉंफ्रेंस के दौरान यह तक कह दिया कि ‘अच्छा हुआ चित्रांगदा फिल्म छोड़कर चली गई, जिससे हमें फिल्म के लिए एक बेस्ट अभिनेत्री मिल गई’। इसके अलावा अपने इस खुलासे के दौरान चित्रांगदा ने यह भी बताया कि इस फिल्म के एक प्रमोशन के दौरान नवाजुद्दीन सिद्दीकी ने खुद यह बात कही थी कि “हमने तो दो बार मजे कर लिये” इन हालातों और इस सोच को देखते हुए चित्रांगदा ने फिल्म बाबुमोशाये बंदूकबाज में काम करने से इंकार कर दिया, जिसके बाद फिल्म के कई क्र-मेंबर्स को मॉडिफाई किया गया।

चित्रांगदा सेन

साल 2003 में हजारों ख्वाहिशें ऐसी भी से अपने करियर की शुरूआत करने वाली चित्रांगदा ने इस मामले में अपना पक्ष साफ करते हुए बताया कि वह इस मामले पर कभी कोई लींगल केस नहीं करना चाहती थी, लेकिन जब फिल्म के निर्माता ने एक कार्यक्रम के दौरान उन्हें लेकर गलत तरीके से अपना पक्ष रखा, तो उन्हें अपने पक्ष में यह कदम उठाना पड़ा।

Leave a Comment